Monday, April 25, 2011

दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा में दूरस्थ शिक्षा का संपर्क कार्यक्रम उद्घाटित


हैदराबाद, 24.04.2011 (प्रेस विज्ञप्ति)।
दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा द्वारा संचालित दूरस्थ शिक्षा  निदेशालय के क्षेत्रीय कार्यालय के तत्वावधान में आज यहाँ एम.ए. हिंदी और स्नातकोत्तर अनुवाद डिप्लोमा के दूरस्थ माध्यम के अध्ययनकर्ताओं के लिए सातदिवसीय संपर्क कार्यक्रम-सह-व्याख्यानमाला का उद्घाटन समारोह सभा के खैरताबाद स्थित परिसर में आयोजित किया गया।

दूरस्थ शिक्षा  निदेशालय के सहायक निदेशक डॉ. पी. श्रीनिवास राव ने यह जानकारी दी कि इस कार्यक्रम में विभिन्न विषय विशेषज्ञ आंध्र प्रदेश  के अलग-अलग अंचलों से आए हुए छात्रों की अध्ययन संबंधी कठिनाइयों का समाधान करेंगे।
उद्घाटन समारोह की अध्यक्षता उच्च शिक्षा और शोध संस्थान के प्रो. ऋषभदेव शर्मा ने की तथा संपर्क अधिकारी एस.के. हलेमनी मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। विषय विशेषज्ञों के तौर पर डॉ. मृत्युंजय  सिंह, डॉ. गोरखनाथ तिवारी, डॉ. बलविंदर कौर, डॉ. जी. नीरजा, डॉ. पूर्णिमा शर्मा, डॉ. साहिराबानू बी. बोरगल, डॉ. लक्ष्मीकांतम और डॉ. शशांक  शुक्ल इस शैक्षणिक कार्यक्रम में भाग ले रहे हैं तथा छात्रगण रंगारेड्डी, वरंगल, प्रकाशम, कृष्णा आदि अंचलों से आए हुए हैं ।
उद्घाटन समारोह में सभी वक्ताओं ने इस बात पर जोर दिया कि भूमंडलीकरण के इस दौर में शिक्षा  के त्वरित और व्यापक प्रसार के लिए दूरस्थ माध्यम वरदान के समान है। आयोजन की सफलता में के. नागेश्वर  राव, सुरेश कुमार, जे. चेन्नकेशव और बलराम का विशेष   योगदान रहा।

चित्र परिचय 1: दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा में दूरस्थ शिक्षा  संपर्क कार्यक्रम के उद्घाटन समारोह में दीप प्रज्वलन के अवसर पर डॉ. ऋषभदेव शर्मा, एस.के. हलेमनी, डॉ. पी. श्रीनिवास राव, डॉ. गोरखनाथ तिवारी, डॉ.  मृत्युंजय  सिंह, डॉ. पूर्णिमा शर्मा, डॉ. बलविंदर कौर और अन्य।

चित्र परिचय 2: दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा में दूरस्थ शिक्षा  संपर्क कार्यक्रम के उद्घाटन के अवसर पर उपस्थित (बाएँ से) डॉ. बलविंदर कौर, डॉ. पी.श्रीनिवास राव, एस.के. हलेमनी, डॉ. ऋषभदेव शर्मा, डॉ. पूर्णिमा शर्मा, के. नागेश्वर  राव एवं प्रतिभागी छात्रगण।
- पी. श्रीनिवास राव

No comments:

Post a Comment